Friday, February 14, 2014

दिल में उजाला





जरूरी नहीं चिरागो से ही उजाला हो,
दिल में उजाला ख्यालो से होता है ।।

                                                                    ना कर शिक़वा ज़िंदगी का ज़िंदगी से,
                                                                    सफ़र अधूरा मलालो से होता है॥

वो जान भी मांग ले तो हम हंस कर देदे,
डर तो हमें उनके सवालो से होता है॥

                                                                   जिन्हे मोड़ कर फेंक दिया करते है वो अक्सर,
                                                                   मेरे जस्बात उन्ही कागजी रुमालों में होता है ॥
Post a Comment