Sunday, August 29, 2010

तुने फिर से छु लिया


बड़ा वक़्त लगा कर सुलझाया था ,
तेरी यादो की गुत्थीयों को ,
तुने फिर से छु लिया ,
सारे धागे फिर से उलछ गए ||

सहला रहा था मैं दर्द अपने ,
लगा के वक़्त का मरहम ,
तुने फिर से छु लिया ,
मेरे सारे गम हरे हो गए ||

बड़ी मुश्किल से लौटी थी मेरे आँगन में चांदनी ,
बड़ी मुश्किल से गुज़रे थे यादो के बादल ,
तुने फिर से छु लिया ,
अब आंखो में सावन उमड़ आया है ||

फिर से नीद का दौर लौट आया था ,
फिर से नए ख्वाब बुनने लगा था ,
तुने फिर से छु लिया ,
अब ना आँखों में नीद है ना ख्वाबो के धागे ||

बड़ी मिन्नतो से तुझे भुलाया है ,
बड़े जतन से खुद को समझाया है ,
मत छु मुझे फिर से ओ ज़ाहिर ,
मेरे जीने के कुछ और भी मकसद है इस ज़माने में ||
Post a Comment