Tuesday, January 14, 2014

हमसे ना होगा



ये ना कहो पतंगे से, 
के शमा को बस ताकता रहे,
संग उसके ना जले ये मुमकिन ना होगा,

या तो बसा लो दिल में या रुखसत कर दो, 
कहे हम तुमको दोस्त बस, 
ये जुल्म अब हम पर हमसे ना होगा॥
Post a Comment